चीन को चुकानी होगी वैश्विक अर्थव्यवस्था के सामने बड़ा संकट खड़ा करने की कीमत: अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो

चीन को कोरोना वायरस महामारी के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए अमेरिका ने कहा है कि उसे वैश्विक अर्थव्यवस्था के सामने बड़ी चुनौती खड़ी करने की कीमत चुकानी होगी।

चीन को चुकानी होगी वैश्विक अर्थव्यवस्था के सामने बड़ा संकट खड़ा करने की कीमत: अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो

अप्रैल 24, 2020

चीन को कोरोना वायरस महामारी के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए अमेरिका ने कहा है कि उसे वैश्विक अर्थव्यवस्था के सामने बड़ी चुनौती खड़ी करने की कीमत चुकानी होगी। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने कहा कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी को कोरोना से जुड़ी जानकारी अमेरिका और ग्लोबल अर्थव्यवस्था से साझा न करने की कीमत अदा करनी ही होगी। बता दें कि दुनिया भर में कोरोनावायरस के चलते बढ़ रहे मौत के आंकड़ों की वजह से चीन गहरे दबाव में है। अमेरिका की ओर से उसे कई बार इसके लिए दोषी ठहराया जा चुका है। यही नहीं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप तो कोरोना को चीनी वायरस भी बताते रहे हैं। अब तक कोरोना वायरस के चलते दुनिया भर में 1,90,870 जानें जा चुकी हैं। अकेले अमेरिका में ही इस वायरस के संक्रमण के चलते लगभग 50,000 लोगों की मौत हो चुकी है।

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने यह भी कहा था कि उनके प्रशासन की उन खबरों पर नजर है, जिनमें यह दावा किया गया है कि कोरोना वायरस वुहान की एक लैबोरेट्री से निकला है। माइक पॉम्पियो ने एक इंटरव्यू में कहा, ‘मैं इस बात को लेकर आश्वस्त हूं कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी को उस बात की कीमत चुकानी होगी, जो उसने किया है। हालांकि मैं यह नहीं कह सकता कि यह किस तरह से होगा।’

उन्होंने यह भी कहा कि “फिलहाल अमेरिकी प्रशासन का फोकस चीन पर नहीं है बल्कि हमारा फोकस अभी लोगों की जान बचाने पर है। एक बार अमेरिकी स्वस्थ होकर खड़े हो जाएं तो फिर अर्थव्यवस्था भी दौड़ने लगेगी।”

पॉम्पियो ने कहा, ‘मैंने पूरी दुनिया की बिजनेस कम्युनिटी से बात की है। मुझे भरोसा है कि अर्थव्यवस्था पटरी पर आ जाएगी। मैंने आम लोगों से भी बात की, जो अपनी जान को खतरे में डालकर कोरोना से निपटने में जुटे हैं। उन लोगों का कहना है कि चीनी सरकार ने वह काम नहीं किया, जो उसे करना चाहिए था। उसे इसके लिए कीमत अदा करनी होगी।’ माइक पॉम्पियो ने चीन के साथ ही विश्व स्वास्थ्य संगठन पर भी नाकामी का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि इस मौजूदा चुनौती से निपटने में चीन की कम्युनिस्ट पार्टी और वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) असफल रहे हैं।

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App