ट्रंप के फंडिंग रोकने के बाद अब WHO के डायरेक्टर जनरल का आया बयान, बोले- राष्ट्रपति ट्रंप के फैसले पर हमें खेद है…

WHO के डायरेक्टर जनरल टेडरोस अधानोम गेब्रियेसस (Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने कहा, ''WHO के फंड को रोकने के राष्ट्रपति ट्रंप के फैसले पर हमें खेद है।

ट्रंप के फंडिंग रोकने के बाद अब WHO के डायरेक्टर जनरल का आया बयान, बोले- राष्ट्रपति ट्रंप के फैसले पर हमें खेद है…

16 April 2020

WHO के डायरेक्टर जनरल टेडरोस अधानोम गेब्रियेसस (Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने कहा, ”WHO के फंड को रोकने के राष्ट्रपति ट्रंप के फैसले पर हमें खेद है।

कोरोनावायरस (Coronavirus) महामारी के कारण दुनियाभर में हाहाकार मचा हुआ है। अमेरिका, ब्रिटेन, स्पेन, फ्रांस, इटली जैसे देश इस वायरस से बुरी तरह से पीड़ित हैं और रोजाना हजारों मौतें COVID-19 के कारण गंवा रहे हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने अमेरिका द्वारा रोके गए फंडिंग पर खेद जताया। डब्ल्यूएचओ के डायरेक्टर जनरल टेडरोस अधानोम गेब्रियेसस (Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने कहा, ”WHO के फंड को रोकने के राष्ट्रपति ट्रंप के फैसले पर हमें खेद है। विश्व स्वास्थ्य संगठन अमेरिकी फंडिंग रुकने से काम पर पड़ने वाले असर की समीक्षा कर रहा है। हम अपने सहयोगी देशों के साथ मिल कर इसकी भरपाई की कोशिश करेंगे। WHO न सिर्फ कोरोना महामारी बल्कि टीबी से लेकर कैंसर तक तमाम तरह की बीमारियों को लेकर दुनिया भर के देशों में काम करता है।”

बता दे कि अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप (Donald Trump) ने पिछले हफ्ते विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) को उनके देश की ओर से दिए जाने वाली वित्‍तीय फंड में कमी करने की धमकी दी थी। इसके बाद मंगलवार को ट्रंप ने विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) को आर्थिक मदद रोक दी। अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ (UN) की इस स्‍वास्‍थ्‍य संस्‍था पर कोरोना वायरस के खतरे को ठीक से हैंडल न कर पाने का आरोप लगाया है।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस की महामारी (Coronavirus Pandemic) के चलते दुनियाभर में एक लाख 25 हजार से ज्‍यादा लोगों की जान जा चुकी है जबकि 20 लाख से अधिक लोग इस वायरस से संक्रमित है। कोराना वायरस के बारे में सबसे पहले, पिछले साल के अंत में चीन में जानकारी मिली थी। यही नहीं, कोरोना वायरस ने दुनियाभर में अरबों लोगों के जनजीवन को भी बुरी तरह से प्रभावित किया है क्‍योंकि इस वायरस के फैलने से रोकने के लिए देशों को लॉकडाउन जैसे उपाय करने को मजबूर होना पड़ रहा है।